Covid 19 Essay in hindi(10 लाइन,250,400,500,600,800,1000 शब्द)

Covid 19 essay in hindi-नवंबर 2019 में पूरी दुनिया में धीरे-धीरे कोरोनावायरस फैलना शुरू हुआ है ऐसा माना जा रहा था कि यह वायरस चाइना की लैब से निकला है हालांकि इस बात में कितनी सच्चाई है अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है, कोरोना वायरस क्या है और वर्तमान समय में इसकी क्या स्थिति है इस बारे में हम आपको इस निबंध के माध्यम से बताएंगे, साथ ही आपको यह भी जानने का मौका मिलेगा कि कोरोनावायरस से लड़ने के लिए हमारे पास वर्तमान समय में क्या-क्या उपाय मौजूद है।

Covid-19 essay in hindi, Covid 19 par essay 10 line, Covid 19 essay 250 words, Covid 19 hindi essay 400 words, Covid 19 essay in hindi 500 words, Covid-19 essay in hindi 600 words, Covid-19 essay in hindi 800 words, Covid-19 essay in hindi 1000 words, Corona se bachne ke upaye essay in hindi,
ब्लॉग का बिषये छुपाये

कोभीड़-19 पर निबंध 10 लाइन(Covid 19 essay in hindi 10 line)

  1. साल 2019 के अंत में नवंबर के महीने में कोरोनावायरस के ने स्ट्रैन कोविड-19 ने विश्व में जन्म लिया।
  2. पूरे विश्व में किसी के पास कोविड-19 के बारे में जानकारी नहीं थी कि यह कितना खतरनाक वायरस हो सकता है।
  3. जैसे जैसे समय बीतता रहा कोविड-19 का संक्रमण और ज्यादा फैलना शुरू हुआ और धीरे-धीरे विश्व के सभी देशों में कोविड-19 का संक्रमण फैलने लगा।
  4. भारत में जनवरी 2020 में कोरोनावायरस के मामले आने शुरू हुए और भारत भी कोरोनावायरस जैसे संक्रमण के लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं था और यही कारण है कि कोरोना वायरस के संक्रमण फैलने के बाद से लोगों में बहुत ज्यादा डर की स्थिति पैदा हो गई।
  5. यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में तेजी से फैल रहा था और सबसे खतरनाक बात इसकी यह थी की इस वायरस की पहचान करना लगभग मुश्किल था क्योंकि यह एक अनदेखा वायरस है।
  6. कोविड-19 के कुछ लक्षण डब्ल्यूएचओ की तरफ से बताए गए जिनमें से खांसी आना, कई दिन तक बुखार रहना और किसी भी चीज का स्वाद ना आना यह कोरोनावायरस के मुख्य लक्षण माने गए लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता रहा इनके लक्षणों में भी बदलाव आते रहे।
  7. कोरोनावायरस के लक्ष्ण इस तरह के थे जो हर व्यक्ति को बहुत ज्यादा परेशान करने वाले थे क्योंकि एक मामूली सा वायरल भी लोगों को डरा देता था क्योंकि एक वायरल में जो लक्षण होते हैं लगभग वही सब लक्षण कोरोनावायरस के रोगी में भी पाए जा रहे थे इसलिए डर भी संभव था।
  8. कोरोनावायरस के कारण बहुत से लोगों ने अपनी जान गवाई और बहुत सारे घरों को हमने उजड़ते हुए देखा लेकिन फिर भी कहीं ना कहीं एक उम्मीद बाकी थी कि इस वायरस से लड़ा जा सकता है और इसकी वैक्सीन पर लगातार कार्य भी किया जा रहा था
  9. समय के साथ-साथ कोरोनावायरस का कहर कम तो नहीं हुआ लेकिन हां लोगों ने इससे बचने के उपाय ढूंढ लिए और कई देशों ने कोरोनावायरस के लिए वैक्सीन भी बना ली जो यह दावा करती थी कि वैक्सीन के बाद से कोरोनावायरस से बचाव किया जा सकता है।
  10. अन्य देशों की तरह भारत ने भी कोविड-19 के बचाव के लिए वैक्सीन तैयार की और यह भी काफी हद तक असरदार साबित हुई और कोविड-19 की भयावह स्थिति को नियंत्रित किया गया।

संबंधित लिख:-कोरोना वायरस पर भाषण हिंदी में।

कोविड-19 निबंध 250 शब्द(Covid 19 essay 250 words)

कोरोनावायरस या कोविड-19 के बारे में वर्तमान समय में लगभग हर व्यक्ति जानता है और कोविड-19 के कारण हर व्यक्ति के जीवन में बहुत सारे बदलाव भी आए हैं क्योंकि कोविड-19 ने इस भयावह दौर में सिर्फ अर्थव्यवस्था को ही नुकसान नहीं पहुंचाया बल्कि लोगों के मनोबल को भी कम किया है और एक नकारात्मक प्रभाव सभी के ऊपर छोड़ा है।

कोरोनावायरस कहां-कहां फैला है ?

वर्तमान समय में विश्व के लगभग हर हिस्से में कोविड-19 का संक्रमण फैला हुआ है फिर वह बात अलग है कि कई देशों में इसके फैलने की रफ्तार कम रही है तो कई देशों में यह बहुत तेजी से फैला है और काफी नुकसान भी पहुंचाया है। अंटार्कटिका जैसे जगह पर भी कोरोनावायरस का संक्रमण फैला हुआ है और यही नहीं कश्मीर और लद्दाख जैसे इलाकों में भी कोरोनावायरस अपने पैर पसार चुका है।

कोरोनावायरस के तेजी से फैलने के कारण

कोरोनावायरस एक ऐसा संक्रमण है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति मे तेजी से फैलता है यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति से बहुत देर से बात कर रहे हैं जो कोरोना संक्रमित है तो इसकी पूरी संभावना है कि कोरोना संक्रमण आप तक भी पहुँच जायेगा, इसके अलावा अगर आप उस व्यक्ति से हाथ मिलाते हैं, या गले लगते हैं तब भी यह संभावना है कि कोरोना वायरस आपको संकर्मित कर सकता है, लेकिन लोग इन बातों पर ज्यादा ध्यान नहीं देते है और यही कारण है कि कोरोनावायरस तेजी से फैल रहा है।

कोविड-19 निबंध 400 शब्द(Covid 19 hindi essay 400 words)

परिचय

वर्तमान समय में कोरोनावायरस पूरी दुनिया में बहुत ज्यादा फैला हुआ है लेकिन समय के साथ-साथ लोगों ने इससे बचाव के उपाय ढूंढ लिए हैं और सरकार भी अपने देश के नागरिकों के लिए हर तरह की सावधानियां बरत रही है और अनेक तरह के कार्य कर रही है जिससे कोरोनावायरस से बचाव किया जा सके, लेकिन स्थिति अभी भी गंभीर है क्योंकि अभी भी कोरोनावायरस पर पूरी तरह से नियंत्रण नहीं आया है और संक्रमण का खतरा अभी भी बना हुआ है।

कोविड-19 क्या है ?

पूरे विश्व में कोरोना का संक्रमण इस कदर फैला की डब्ल्यूएचओ को इस को महामारी घोषित करना पड़ा क्योंकि डब्ल्यूएचओ संगठन यह जानता था कि आने वाले समय में कोरोना का खतरा और ज्यादा बढ़ेगा और यह बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाला है इसलिए कोरोनावायरस के शुरुआती दौर में ही डब्ल्यूएचओ ने बहुत सारी गाइडलाइन जारी की और कोरोना वायरस से बचाव के तरीके लोगों के बीच में रखें।

कोरोनावायरस की शुरुआत

2019 में पहली बार चीन में कोरोना संक्रमण फैलता हुआ दिखाई दिया और कुछ ही समय में हालात बहुत ज्यादा गंभीर हो गई, लेकिन चाइना ने अलग-अलग तरीकों को अपनाया और कोरोनावायरस पर जल्द ही नियंत्रण पा लिया ऐसे में बहुत से देशों का यह भी मानना था कि कोरोनावायरस चाइना से ही शुरू हुआ है और यह चाइना की एक साजिश है हालांकि इस बात में कितना सत्य है यह अभी पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हुआ है लेकिन यह बात तय है कि कोरोनावायरस की शुरुआत चाइना से ही हुई और उसके बाद ही अन्य देशों में यह फैलना शुरू हुआ और देखते-देखते लगभग पूरे विश्व में कोरोनावायरस ने अपने पैर पसार लिए।

कोरोनावायरस को लेकर अफवाहें

जब पूरे विश्व में कोरोनावायरस फैल चुका था उसके बाद से लोगों ने अपनी अपनी राय रखने शुरू की और कुछ लोगों का तो यह भी मानना था कि चाइना में लैब एक्सपेरिमेंट के दौरान कोरोनावायरस covid 19 बना और यह पूरी दुनिया में फैल गया।

कुछ लोगों का यह भी मानना था कि यह चाइना की साजिश है ताकि वह पूरे विश्व में कोविड-19 को फैलाए और बाद में इसका टीका देशों को बेचे हालांकि यह बात सत्य है कि चाइना ने कई देशों को वैक्सीन उपलब्ध कराई है और उन देशों ने उस वैक्सीन के माध्यम से काफी हद तक कोरोनावायरस पर नियंत्रण पाया है। लेकिन अभी भी यह कहना ठीक नहीं होगा कि कोरोनावायरस चीन ने ही बनाया है या यह उसकी कोई साजिश है अभी तक इस बात के कोई भी पुख्ता प्रमाण नहीं मिले है।

कोविड-19 पर निबंध 500 शब्द(Covid 19 essay in hindi 500 words)

परिचय

विश्व में अक्सर कुछ ऐसी समस्याएं हमेशा मौजूद रही हैं जिनके लिए सभी देश एक साथ लड़ते हैं और उन से निजात पाने के लिए अलग-अलग तरीके अपनाते हैं लेकिन कोरोनावायरस एक ऐसी समस्या थी जिसके लिए कोई भी देश तैयार नहीं था और इसके आने के बाद किसी तरह का कोई निवारण दिखाई नहीं दे रहा था और आज भी कोरोनावायरस का खतरा बना हुआ है। सभी देश और हर देश के नागरिक कोरोनावायरस से बचाव के लिए हर तरीके अपना रहे हैं और जहां-जहां वैक्सीन बन चुकी है वहां सभी नागरिकों को वैक्सीन भी लगाई जा रही है ताकि कोरोनावायरस का खतरा उन पर कम रहे।

कोविड-19 को लेकर तैयारी

कोरोनावायरस की जब पहली लहर विश्व भर में फैली थी उसके लिए कोई भी देश तैयार नहीं था ना ही देश के नागरिक समस्या से लड़ने के लिए सक्षम थे, लेकिन जब कोरोनावायरस तेजी से फैला उसके बाद से लोगों ने इससे बचाव के लिए अपनी अपनी तैयारियां शुरू कर दी और वैश्विक स्तर पर भी अनेक तरह के कार्य किए जाने लगे जिससे कोरोनावायरस से बचाव किया जा सके।

अधिकतर स्कूल और कॉलेज अभी भी बंद है क्योंकि स्कूल दोबारा से शुरू करने पर कोरोनावायरस का खतरा बढ़ सकता है और हो सकता है विद्यार्थी भी इसकी चपेट मे आ जाए और अगर विद्यार्थी चपेट में आ गए तो समस्या काफी बढ़ सकती है, इसलिए अभी अधिकतर स्कूल और कॉलेज बंद ही हैं।

भारत में सोशल डिस्टेंस और मास्क को अनिवार्य कर दिया गया है और इसका कड़े नियमों के साथ पालन किया जा रहा है, कुछ जगहों पर मास्क ना लगाने और सोशल डिस्टेंस का पालन ना करने पर चालान भी रखा गया है ताकि लोग इन नियमों का पालन करें और कोरोनावायरस से बच सकें।

कोविद 19 में लोक डाउन

कोरोनावायरस के शुरुआती समय में जब इस वायरस का खतरा बहुत ज्यादा बढ़ गया था और इसका संक्रमण लगातार बढ़ता ही जा रहा था ऐसी स्थिति में देश में लोक डाउन लगाने के विकल्प के अलावा और कोई भी विकल्प मौजूद नहीं था और यह भी सत्य है कि लोग डाउन लगाने के बाद काफी हद तक कोरोनावायरस के मामले कम हुए और लोग भी अपना और अपने परिवार का बचाव लॉकडाउन के कारण कर पाए।

भारत में 24 मार्च 2020 को संपूर्ण लॉकडाउन लगाया गया जिसका अर्थ यह था कि लोगों को अपने घर पर रहकर ही अपना बचाव करना है और बहुत ज्यादा जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलना है, ऐसी स्थिति में यह सभी लोगों के लिए बहुत बड़ी चुनौती थी जिसका सामने भी लोगों ने किया।

हालांकि लॉक डाउन के दौरान कुछ लोग ऐसे भी थे जो नियमों का पालन नहीं कर रहे थे और जरूरत ना होने पर भी घर से बाहर निकल रहे थे उन सभी लोगों पर कार्यवाही भी की गई और पुलिस द्वारा कड़ा रुख भी अपनाया गया।

निष्कर्ष

कोरोनावायरस के कारण लोगो की जिंदगी में बहुत सारे बदलाव आए हैं, कुछ लोगों की आर्थिक स्थिति पर भी बहुत बुरा असर पड़ा, लेकिन फिर भी लोग कोरोनावायरस से अपना बचाव कर रहे हैं और हर तरह की सावधानियां अपना रहे हैं। सरकार की तरफ से भी कोरोना वैक्सीन अधिक से अधिक नागरिकों को लगाई जा रही है ताकि कोरोनावायरस से सभी का बचाव किया जा सके और इसके संक्रमण को रोका जा सके।

करोना पर निबंध 600 शब्द(Covid 19 essay in hindi 600 words)

भारत एक बड़ी जनसंख्या वाला देश है जहां पर अनेक तरह की समस्याएं पहले से ही मौजूद हैं ऐसी स्थिति में किसी ऐसी महामारी का देश में आना सभी के लिए बहुत बड़ी चुनौती थी क्योंकि यह संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल रहा था और भारत एक ऐसा देश है जहां पर अक्सर लोग साथ रहना और एक दूसरे के करीब रहना पसंद करते हैं और यही कारण है जो कोरोनावायरस भारत में इतनी तेजी से फैला और इस पर नियंत्रण पाना मुश्किल हो गया।

कोरोनावायरस की पहली लहर

भारत में ज़ब कोरोनावायरस की शुरुआत हुई उसके बाद अचानक से बहुत ज्यादा मामले आने लगे उसके बाद सरकार की तरफ से कड़ा रुख अपनाया गया और पूरे देश में संपूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया, हालांकि उसके बाद से कोरोनावायरस के आंकड़ों में कमी होती नजर आई लेकिन जब लोकडाउन हटा उसके बाद लोगों ने अपनी सभी गतिविधियां दुबारा से शुरू कर दी और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों का भी उल्लंघन किया जिसका खामियाजा भारत को उठाना पड़ा और इसका असर कोरोना की दूसरी लहर पर दिखाई दिया।

कोरोनावायरस की दूसरी लहर

पूरे विश्व में कोरोना की दूसरी लहर सबसे ज्यादा भयावह थी क्योंकि कोरोना की दूसरी लहर में लोगों को बहुत ज्यादा नुकसान हुआ, कोरोनावायरस की दूसरी लहर के कारण लगभग 400000 से भी अधिक लोगों ने अपनी जान गवाई जो कि एक बहुत बड़ा आंकड़ा है, इसके अलावा कोरोना की दूसरी लहर के कारण बहुत से लोगों की आर्थिक स्थिति बहुत कमजोर हो गई है और उन्हें अनेक तरह की समस्याओं का सामना भी करना पड़ा।

सरकार द्वारा आर्थिक मदद

कोरोनावायरस की दूसरी लहर आने के बाद एक सबसे बड़ी समस्या उत्पन्न हो गई वह यह थी की आर्थिक स्थिति को किस तरह से सुधारा जाए क्योंकि अधिकतर लोगों की नौकरियां जा चुकी थी और उनके पास जीवन यापन करने के भी पैसे नहीं थे, ऐसे मे सरकार ने काफी लोगों की मदद की लोगों को मुफ्त राशन दिया इसके अलावा जिन लोगों की आर्थिक स्थिति बहुत ज्यादा खराब थी उनके खाते में कुछ रुपए भी दिए ताकि वह अपना जीवन यापन कर सके।

लोगों द्वारा पलायन

कोरोनावायरस के इस दौर में भारत ने एक बहुत बड़ी समस्या को भी देखा है जब लोगों ने पलायन करना शुरू किया जब लोगों की आर्थिक स्थिति बहुत ज्यादा कमजोर हो गई और लोकडाउन के कारण लोगों के पास कोई काम भी नहीं था इसलिए लोगों ने अपने गांव और अपने घरों की तरफ जाना शुरू कर दिया।

ऐसी स्थिति में उन सभी लोगों को बहुत ज्यादा समस्याओं का सामना करना पड़ा क्योंकि उस समय हर तरह के ट्रांसपोर्ट भी बंद थे, ऐसे में लोगों ने अलग-अलग तरीके से अपने घर जाने का निर्णय लिया और कुछ लोग पैदल और साइकिल के माध्यम से भी अपने घर तक गए, यह सब देखना बहुत ज्यादा दुखदायक था।

हालांकि जब कोरोनावायरस का संक्रमण कम होता नजर आया और लोक डाउन को हटाया गया उसके बाद लोगों ने शहरो की तरफ आना शुरू किया और धीरे-धीरे हर तरह की गतिविधियां शुरू होने लगी।

निष्कर्ष

यह बात बिल्कुल सत्य है कि कोरोनावायरस की पहली और दूसरी लहर में लोगों को बहुत ज्यादा नुकसान का सामना करना पड़ा और उन्होंने अपने जीवन में बहुत सारी समस्याओं को भी झेला लेकिन इस चुनौती का सभी लोगों ने सामना किया और इससे अपना और अपने परिवार का बचाव किया। वर्तमान समय में स्थिति ठीक होती नजर आ रही है और अधिकतर लोग कोरोनावायरस की वैक्सीन लगवा रहे हैं ताकि वह अपना बचाव कोरोनावायरस से कर सकें और इसके संक्रमण को रोका जा सके।

कोरोनावायरस पर निबंध 800 शब्द(Covid 19 essay in hindi 800 words)

परिचय

कोरोनावायरस या कोविड-19 एक संक्रामक बीमारी है जो SARC-COV-2 के कारण फैलती है पूरे विश्व में कोरोनावायरस का प्रकोप छाया हुआ है, इस महामारी के कारण देशों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा है और कोविड-19 महामारी के कारण बहुत से देशों की आर्थिक स्थिति पर भी बुरा असर पड़ा है। भारत भी उन देशों में से एक है भारत की अर्थव्यवस्था पर भी कोरोनावायरस के कारण बुरा असर पड़ा है हालांकि अब स्थिति समान होती नजर आ रही है लेकिन फिर भी एक बुरा दौर भारत की अर्थव्यवस्था ने कोरोनावायरस के कारण देखा है।

कोरोनावायरस की चपेट में जो लोग आते हैं उन में अलग-अलग तरह के लक्षण दिखाई देते हैं यदि वह अपनी इम्युनिटी मजबूत रखते हैं और वह शारीरिक रूप से पूरी तरह से फिट रहते हैं तो ऐसे बहुत सारे मामले आए हैं जिसमें कोरोनावायरस से संक्रमित होने के बाद वह व्यक्ति अपने आप ही ठीक हो गए लेकिन वहीं कुछ लोग ऐसे भी थे जो कोरोनावायरस के संक्रमण में आने के बाद उनकी स्थिति बहुत ज्यादा गंभीर हो गई और बहुत से ऐसे मामले आए जिनमें उन मरीजों को बचाया जाना भी मुश्किल हो गया।

कोरोनावायरस के इतने अलग-अलग तरह के मामलों के कारण इस बीमारी को ठीक तरह से समझा नहीं गया और अभी तक इस बात पर शोध हो रहा है कि यह बीमारी कहां से आई है हालांकि कुछ लोगों का यह भी मानना है कि यह बीमारी चाइना ने ही पूरी दुनिया में फैलाई है क्योंकि सबसे पहला देश कोरोनावायरस से संक्रमित होने वाला चाइना हीं था।

कैसे फैलता है कोरोनावायरस

कोरोनावायरस एक ऐसा संक्रमण है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है यदि कोई संक्रमित व्यक्ति छिकता है, बोलता है, गुनगुनाता है तो उसके मुंह से या नाक से निकलने वाले कणों के माध्यम से कोरोनावायरस उस व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल जाता है और जब दूसरा व्यक्ति तीसरे व्यक्ति से मिलता है तो वह भी संक्रमित हो जाता है और यही कारण है कि इस तरह की एक चैन बन गई और बहुत कम समय में बहुत अधिक लोग कोरोना वायरस से पूरी दुनिया से संक्रमित हो गए।

इसके अलावा यदि कोई संक्रमित व्यक्ति अपने मुंह या नाक पर हाथ लगाता है और फिर वही हाथ वह किसी दूसरे व्यक्ति से मिलाता है तो उस व्यक्ति के भी संक्रमित होने की संभावना अधिक हो जाती है इसलिए कोरोनावायरस के कारण सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जा रहा है और एक दूसरे से दूरी बनाई जा रही है। सरकार भी इसके लिए अनेक अनेक तरह के कार्य कर रही है जिससे उन नियमों का कड़ा पालन किया जा सके।

कोरोनावायरस के लक्षण

शुरुआती समय में जब पूरे विश्व में कोरोनावायरस शुरू हुआ तो उस समय तक कोरोनावायरस के लक्ष्ण बहुत सामान्य थे जो किसी भी आम वायरल या बुखार में होते हैं यदि कोई व्यक्ति काफी लंबे समय से बुखार से पीड़ित है या काफी लंबे समय से उसे खाने का स्वाद नहीं आ रहा है और बार-बार छींक आ रही है तो यह संभावना हो सकती है कि वह व्यक्ति कोरोनावायरस से ग्रसित हो।

लेकिन कोरोनावायरस की दूसरी लहराने के बाद इन लक्षणों में भी काफी बदलाव आए हैं जिनमें से कुछ लक्षण ऐसे हैं जिनका पता आप लगा सकते हैं, डब्ल्यूएचओ के अनुसार यदि आपकी आंखों का लाल रह रही है और आप के सर में काफी लंबे समय से दर्द रहने लगा है, त्वचा पर किसी तरह का संक्रमण हो रहा है तो आपको कोरोनावायरस की जांच करा लेनी चाहिए क्योंकि यदि आप कोरोनावायरस से संक्रमित हैं तो यह आपके परिवार के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है।

कोरोनावायरस और लोगों की जागरूकता

कोविड-19 की दूसरी लहर के बाद अब अधिकतर लोग जागरूक हो गए हैं और कोरोनावायरस से बचाव के लिए सभी तरह के कार्य कर रहे हैं और सरकार द्वारा जो भी निर्देश दिए जा रहे हैं, या जो नियम बनाए जा रहे हैं उन सभी का पालन लोग कर रहे हैं।

हालांकि कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अभी भी ढिलाई दे रहे हैं लेकिन उनके लिए भी सरकार अलग-अलग तरह के कार्य कर रही है ताकि वह लोग जागरूक हो सके और अपना और अपने परिवार का बचाव कर सकें। अधिकतर दुकानों और सार्वजनिक जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मास्क अनिवार्य कर दिया गया है यदि कोई व्यक्ति बिना मास लगाए दुकान के अंदर प्रवेश करता है तो उसको मना कर दिया जाता है। यह लोगों द्वारा उठाए जाने वाला एक अच्छा कदम है जिससे कोरोनावायरस से बचाव किया जा सकता है।

निष्कर्ष

वर्तमान समय में अधिकतर लोग कोरोनावायरस के बारे में काफी जागरूक हो गए हैं अब अधिकतर लोगो को कोरोनावायरस के शुरुआती लक्षणों के बारे में जानकारी है और वह सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन कर रहे हैं और यही एकमात्र विकल्प है जो वर्तमान समय में हमें कोरोनावायरस से संक्रमित होने से बचा सकता है।

इसके अलावा यदि आपने अभी तक टीकाकरण नहीं कराया है तो आपको जरूर करा लेना चाहिए क्योंकि यदि आप कोरोना के लिए बनी वैक्सीन लगवा लेते हैं तो कोरोनावायरस से संक्रमित होने की संभावना आपकी बहुत कम हो जाती है और यदि आप कोरोनावायरस से किसी कारण संक्रमित हो भी जाते हैं तो आप उस से लड़ सकेंगे और अपने जीवन को बचा सकेंगे।

कोरोनावायरस पर निबंध 1000 शब्द(Covid 19 essay in hindi 1000 words )

कोरोनावायरस ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी बन गई है जिसमें 70 से अधिक देशों में अपना प्रभाव छोड़ा है और देश की अर्थव्यवस्था पर एक बुरा असर डाला है। चीन के वुहान से इस कोरोनावायरस का संक्रमण शुरू हुआ और आज लगभग विश्व के हर देश में कोरोनावायरस का संक्रमण मौजूद है और यह हर दिन बढ़ता जा रहा है, हालांकि वर्तमान समय में कुछ देशों ने इसके लिए वैक्सीन तैयार कर ली है जो काफी हद तक असरदार भी है लेकिन फिर भी कोरोनावायरस को अभी तक पूरी तरह से हराने का कोई भी विकल्प सामने नहीं आया है इसलिए अभी भी इससे खुद को सुरक्षित रखना बहुत जरूरी है।

भारत में कोरोनावायरस फैलने का कारण

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि कोरोना बीमारी एक ऐसी महामारी है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलती है यदि कोई व्यक्ति संक्रमित है और वह सामने वाले व्यक्ति से बात कर रहा है या उसे हाथ मिला रहा है तो यह संभावना अधिक हो जाती है कि वह भी कोरोनावायरस से संक्रमित हो जाएगा और भारत में भी कुछ ऐसा ही हुआ है। कोरोनावायरस के भारत में दस्तक देने के बाद अधिकतर लोगों को इस बात की जानकारी नहीं थी कि वह कोरोना संक्रमित है क्योंकि शुरुआती समय में इसके लक्षण इतने गंभीर नहीं थे लोगों को हल्का बुखार या खांसी होती थी और वह इसको नजरअंदाज करते थे।

लेकिन जैसे-जैसे समस्या गंभीर हो जाती थी उसके बाद उन्हें मालूम होता कि वह कोरोना से संक्रमित हैं और तब तक वह ना जाने कितने लोगों को संक्रमित कर चुके होते थे। भारत बड़ी जनसंख्या वाला देश है जहां पर हर घर में कम से कम 5 लोग रहते हैं ऐसे में यदि एक व्यक्ति भी संक्रमित हो जाता है तो वह अपने साथ चाहे ना चाहे अनेक लोगों को संक्रमित कर सकता है और इसके गंभीर परिणाम भी भुगत सकता है।

भारत में कोरोनावायरस की तेजी से फैलने का एक बड़ा कारण यह भी है कि शुरुआती समय में लोगों ने इस को बहुत गंभीरता से नहीं लिया और बहुत ज्यादा ढिलाई कि इसके परिणाम स्वरूप हमें बहुत ज्यादा समस्या का सामना करना पड़ा और कोरोनावायरस की दूसरी लहर के समय अनेक लोगों ने अपनी जान गवाई और ऐसे बहुत सारे लोग थे जिनकी आर्थिक स्थिति बिल्कुल कमजोर हो गई, इसलिए कोरोना के प्रति जागरूकता बहुत आवश्यक है ताकि आप अपने आप को भी सुरक्षित रख सके और अपने परिवार को भी।

करोना की वर्तमान स्थिति

कोविड-19 कोरोनावायरस की वर्तमान स्थिति की बात की जाए तो आज कई देशों ने कोरोनावायरस के लिए टीका बना लिया है और वह उसका इस्तेमाल कर रहे हैं और यह टीका काफी हद तक असरदार भी साबित हो रहा है। भारत ने भी कोरोनावायरस के लिए वैक्सीन तैयार कर ली है और साथ ही भारत ने अनेक देशों को कोरोनावायरस की वैक्सीन निर्यात भी की है ताकि उन देशों को भी सहायता हो सके। बड़े स्तर पर लोगों को कोरोना वैक्सीन लगवाई जा रही है ताकि वह कोरोना से अपना बचाव कर सकें।

वर्तमान समय में अधिकतर लोग काफी जागरूक हो गए हैं और कोरोना की दूसरी लहर के बाद से वह काफी सावधानियां बरत रहे हैं जरूरत होने पर ही वह घर से बाहर जा रहे हैं और बाहर निकलने पर वह मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी कर रहे हैं ताकि वह कोरोनावायरस से सुरक्षित रह सके।

वैक्सीन को लेकर भ्रांतियां

लोगों के बीच में कोरोनावायरस की वैक्सीन को लेकर अलग-अलग तरह की भ्रांतियां चल रही है और वह बहुत सारी अफवाहों के शिकार भी हो रहे हैं कुछ लोगों का यह मानना है कि वैक्सीन लगवाने के बाद आप बहुत ज्यादा बीमार पड़ जाएंगे और आपका ठीक हो पाना मुश्किल हो जाएगा, तो वहीं कुछ लोग यह भी मानते हैं कि कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद भी कोरोना से संक्रमित होने की संभावना अधिक रहती है जो की पूरी तरह से गलत है।

कोरोना की वैक्सीन लगवाने के बाद आपको हो सकता है थोड़ा बुखार हो जाए जो कि 1 से 2 दिन में सामान्य भी हो जाता है इससे अधिक कोरोना वैक्सीन का ज्यादा कोई नुकसान नहीं है। क्योंकि हम जिस बीमारी से वर्तमान समय में लड़ रहे हैं वह बहुत बड़ी समस्या है और उस बीमारी के कारण लाखों लोग अपनी जान भी गंवा चुके हैं ऐसी स्थिति में यदि आप कोरोना वैक्सीन लगवा लेते हैं तो आपके संक्रमित होने की संभावना बहुत कम हो जाती है और यदि आप संक्रमित होते भी हैं तो आप उस बीमारी से लड़ सकेंगे।

इसलिए यह बहुत आवश्यक है कि लोग कोरोनावायरस के टीकाकरण को लेकर जागरूक हो और अपने और अपने परिवार का टीकाकरण अवश्य कराएं ताकि आप भी सुरक्षित रह सके और अपने परिवार को भी सुरक्षित रख सकें। इसके अलावा आपको सरकार द्वारा बनाए गए निर्देशों का पालन करना है और सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का प्रयोग करना है क्योंकि हमारी जरा सी भी लापरवाही हमें एक बड़ी समस्या की तरफ ले जा सकती है।

निष्कर्ष

यदि आप भी कोरोनावायरस की वैक्सिंग को लेकर भ्रमित हैं और आपके मन में कोरोनावायरस की वैक्सीन को लेकर बहुत सारे सवाल है तो आप सरकार द्वारा बनाए गए हेल्पलाइन पर फोन कर सकते हैं और डॉक्टर से इसके बारे में सलाह ले सकते हैं, यदि आपके डॉक्टर आपको वैक्सीन लगवाने की सलाह देते हैं तो आप वैक्सीन अवश्य लगाएं साथ ही अपने परिवार के परिजनों का भी टीकाकरण जरूर कराएं क्योंकि करोना का संक्रमण किसी को भी हो सकता है और यदि परिवार का कोई भी सदस्य कोरोना से संक्रमित हो जाता है तो यह समस्या गंभीर हो जाएगी और पूरा परिवार कोरोनावायरस से संक्रमित हो सकता है इसलिए कोरोना कि वैक्सीन जरूर लगवाए।

कोरोनावायरस से बचने के उपाय(Corona se bachne ke upaye essay in hindi)

  1. यदि आप कोरोनावायरस से अपना बचाव करना चाहते हैं और इस बीमारी से संक्रमित नहीं होना चाहते तो सबसे पहले आपको सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क का प्रयोग करना होगा ताकि आप किसी भी संक्रमित व्यक्ति के चपेट में ना आ सके।
  2. कोरोनावायरस से बचाव के लिए आपको समय-समय पर अपने हाथों को धोना है या फिर सैनिटाइज करना है क्योंकि जाने-अनजाने हमारे हाथों पर बहुत सारे कीटाणु लग जाते हैं और उनमें से कुछ कोरोना के भी हो सकते हैं इसलिए अपने हाथों को सैनिटाइज रखना है।
  3. कुछ लोगों की आदत होती है की वह होने हाथों को बार-बार अपने मुंह पर या अपने बालों की तरफ लगाते रहते हैं जो कि एक बुरी आदत साबित हो सकती है क्योंकि अगर कोरोनावायरस के कण आपके हाथों पर मौजूद हैं और आप उसे अपने मुंह या अपने बालों की तरफ ले जा रहे हैं तो आपके संक्रमित होने की संभावना अधिक हो जाती है इसलिए बार-बार अपने हाथों को अपने मुंह की तरफ ना ले जाए।
  4. हर देश की सरकार अपने नागरिकों को सुरक्षित रखने के लिए अलग-अलग तरह के कार्य कर रही है और नए नए नियम बना रही है ठीक उसी तरह से भारत सरकार भी कोरोनावायरस से बचाव के लिए अलग-अलग तरह के कार्य कर रही है इसलिए आपको सरकार द्वारा बनाए गए नियमों का पालन करना है और उन नियमों का उल्लंघन नहीं करना है।
  5. कोरोनावायरस के इस दौर में आपको बाहर के खाने से भी बचना है क्योंकि यदि आप बाहर का खाना खाएंगे तो हो सकता है आप कोरोनावायरस संक्रमित हो जाएं इसलिए आपको घर के बने खाने का इस्तेमाल करना है और घर पर ही खाना बनाना है।
  6. यदि आपको या आपके किसी परिवार के सदस्यों को काफी लंबे समय से बुखार या खांसी या सर में दर्द है तो आपको उसकी जांच जरूर करानी चाहिए कहीं वह कोरोना से संक्रमित ना हो इसलिए जांच अवश्य कराएं।
  7. अपना नंबर आने पर आपको वैक्सीन जरूर लगवानी है क्योंकि वैक्सीन वर्तमान समय में एकमात्र ऐसा विकल्प है जो आपको कोरोनावायरस से संक्रमित होने से काफी हद तक बचा सकता है।

Covid 19 का फुल फॉर्म क्या है?

Covid 19 का फुल फॉर्म है co-corona,vi-virus, D-Disease ,हिंदी में उसका अर्थ है कोरोना नामक वायरस द्वारा हुआ बीमारी।

कोरोना वायरस कौनसी साल में पाया गया था?

कोरोना वायरस सर्ब प्रथम चीन की वुहान सहर में दिसंबर 2019 को पाया गया था।

Leave a Comment