निबंध लेखन|Essay in Hindi:स्कूल और प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए निबंध लेखन(2022)?

Essay in Hindi:-हेल्लो दोस्तों, आज हम आपको निबंध लेखन के बारे मे पूरी जानकारी देने वाले है। कई लोगों के मन में सवाल होते है, कि निबंध क्या है, कैसे लिखते है निबंध? आदि यह सभी सवालों का निराकरण हमने इस लेख मे किया है। किसी भी वस्तु, त्यौहार, कार्यक्रमों आदि के लिए निबंध लेखन करना एक कला है।

हमारी शिक्षा मे कक्षा पांच से ही हमे निबंध लेखन लिखने का बोला जाता है। एक अच्छा निबंध लिखना कोई आसान काम नहीं है। आज के समय मे निबंध लेखन के लिए बहुत सारी सरकार और संस्थाओ द्वारा निबंध प्रतियोगिता योजी जाती है। आप भी एक अच्छा निबंध लिखना चाहते है तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

Essay-Writing-in-hindi
ब्लॉग का बिषये छुपाये

निबंध क्या है?(निबंध लेखन की परिभाषा)

सरल शब्दों मे कहे तो लेखन का एक छोटा सा टुकड़ा निबंध होता है, जो किसी विशिष्ट विषय पर आधारित होता है। निबंध लेखन विषय के आसपास की जानकारी देता है, साथ ही निबंध लेखक के विचारों को भी प्रदर्शित करता है।

अक्सर, निबंध का प्रयोग शिक्षा के रूप मे परीक्षा के माध्यम से किया जाता है, जिससे यह निर्धारित होता है कि छात्र ने अपनी शिक्षा को अच्छे तरीके से समझ लिया है और किसी विषय पर छात्र अपने ज्ञान का अच्छे तरीके से परीक्षण करने के लिए तैयार है। शिक्षा में निबंध लेखन का उपयोग छात्र के लेखन कौशल को विकसित करने के लिए किया जाता है।

लेख और निबंध में क्या अंतर है ?

लेख और निबंध लिखना दोनों अलग अलग रचनाओं है। लेख प्रिंट मीडिया जैसे पत्रिकाओं, अखबारो या इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से प्रकाशित करने के लिए लिखा जाता है। जहां, निबंध किसी विशेष विषय का विश्लेषण या वर्णन करने के लिए लिखा जाता है।

मुख्य रूप से वस्तुनिष्ठ दृष्टिकोण से एक लेख लिखा जाता है, इसलिए लेख में विशेष रूप से विभिन्न प्रकार के विचार संयुक्त होते है। जहां निबंध लेखक के व्यक्तिपरक विचारो को दर्शाता है, इसलिए निबंध लेखन विचारों की एक एकल और सुसंगत रेखा का अनुसरण करता है।

विभिन्न प्रकार के शीर्षकों और उपशीर्षकों का उपयोग लेख को पठनीय और रोचक बनाने के लिए किया जाता है। जहां, निबंध लेखन में बुलेट पॉइंट, उपशीर्षक आदि का उपयोग नहीं किया जाता है। निबंध लेखन रचना में प्रकट की जा रहीं विचारो की पंक्तियाँ निरंतरता और एकता को प्रदान करती है।

निबंध कभी भी किसी पाठकों या उदेश्यो को ध्यान मे रखते हुए नहीं लिखा जाता है, बल्कि टिप्पणियों, विचारो, आलोचनाओं और प्रतिबिंबो को व्यक्त करने के लिए लिखा जाता है। जहां लेख पाठकों और उदेश्य को ध्यान मे रखते हुए लिखा जाता है। जिससे लेख निबंध से अलग बनता है।

लेख को सांख्यिकीय चार्ट, डेटा, तस्वीरों और रिपोर्ट द्वारा समर्थन की जरूरत होती है क्योंकि लेख तथ्य आधारित और वस्तुनिष्ठ होता है। लेख के विपरीत निबंध को यह सबका समर्थन की जरूरत नहीं होती है, बल्कि निबंध को संदर्भों और उद्धरणों की जरूरत होती है।

निबंध लिखने के महत्त्व

निबंध को लिखने के बहुत सारे फायदे और महत्व है। हमारी शिक्षा में निबंध का बहुत बड़ा महत्व है। यहां पर कुछ टॉपिक की मदद से हमने निबंध का महत्व निम्नलिखित किया है।

  • निबंध लिखते समय आपको सोचने पर मजबूर कर देता है।
  • निबंध लिखना एक समर्पित समय है, यह समय पर आप दिए गए विशेष विषय पर सोचते हो।
  • निबंध आपको अपनी कमजोरियों भी बताता है।
  • निबंध लिखना आपकी क्षमताओं की एक परीक्षा है। जिससे पता चलता है कि आप किसी भी विषय पर सोचने के लिए सक्षम है या नहीं?
  • निबंध आपको नये नये विषयो की खोज करने के लिए मजबूर कर देता है।
  • निबंध आपकी खोजने की रुचि को भी विकसित करता है और आपको शोध क्षमता को बढावा देता है।
  • निबंध किसी भी लोग, शिक्षक या व्यक्ती को यह सोचने में मजबूर कर देता है कि आप कौन हो।
  • निबंध को लिखने से आपकी लेखन शैली, शब्दावली, लिखावट, विचार संग्रह और ज्ञान में सुधार आता है।
  • समय प्रबंधन का परीक्षण निबंध लिखने से किया जाता है। इसकी मदद से आपको कौशल को भी बढ़ाया जा सकता है।
  • कोई भी व्यक्ती निबंध लेखन में उत्कृष्ठ हासिल कर लेता है तो वह व्यक्ति एक अच्छा पाठक, वक्ता, लेखक और एंकर भी बन सकता है।

निबंध के अंग

निबंध के अंग

निबंध लेखन में पांच अंगों का समावेश होता है, जिसमें परिचय, पहला बॉडी अनुच्छेद, दूसरा बॉडी अनुच्छेद, तीसरा बॉडी अनुच्छेद और निष्कर्ष का समावेश होता है। इसके बारे मे हम संक्षिप्त मे चर्चा करते है।

1) प्रथबना :

निबंध का पहला भाग परिचय होता है, जो पाठकों को यह बताता है कि निबंध किस विषय को संबोधित कर रहा है। यह परिचय के अंत मे थीसिस कथन होता है, जो निबंध के तर्क को प्रस्तुत करता है। परिचय का अंतिम वाक्य संक्रमण कालीन वाक्य होता है जो निबंध के पहले बॉडी अनुच्छेद से सबंधित होता है।

2) पहला बॉडी अनुच्छेद :

निबंध का दूसरा भाग पहला बॉडी अनुच्छेद होता है, जो एक मजबूत बिंदु प्रस्तुत करता है। यह थीसिस कथन को साबित करता है। यह अनुच्छेद का पहला वाक्य परिचय के संक्रमण कालीन वाक्य से बंधा हुआ होता है। इसके बाद का वाक्य विशिष्ट उदाहरणों का वर्णन करता है। इस अनुच्छेद में भी परिचय की तरह अंतिम वाक्य संक्रमण कालीन होता है।

3) दूसरा बॉडी अनुच्छेद :

पांच अनुच्छेद के निबंध में दूसरा बॉडी अनुच्छेद आपकी थीसिस के समर्थन में दूसरा सबसे सम्मोहक तर्क प्रस्तुत करता है। यह अनुच्छेद का पहला वाक्य पहले बॉडी अनुच्छेद में संक्रमण कालीन वाक्य में बाँधता है। पहले वाक्य में पूरे अनुच्छेद का स्पस्ट रूप से तर्क बनाना चाहिए। इसके बाद के वाक्यों में इस तर्क का समर्थन करने के लिए विविध उदाहरणों का उपयोग होता है। इस अनुच्छेद का भी अंतिम वाक्य अगले अनुच्छेद से संक्रमण कालीन होता है।

4) तीसरा बॉडी अनुच्छेद :

तीसरा यानी अंतिम बॉडी अनुच्छेद पूरे निबंध का चौथा भाग है। इस अनुच्छेद में थीसिस कथन के समर्थन में सबसे कमजोर तर्क प्रस्तुत होता है। यह निबंध का सबसे कमजोर तर्क हो सकता है। तीसरे बॉडी अनुच्छेद को एक समापन कथन के साथ समाप्त होता है, जो पाठक को यह स्पष्ट करता है कि यह अंतिम प्रमुख बिंदु है जिसे आप बनाएंगे।

5) उपशंहर :

पांच अनुच्छेद के निबंध का अंतिम भाग निष्कर्ष है। इस अनुच्छेद में थीसिस को फिर से लिखा जाता है, लेकिन यह थीसिस पहली थीसिस से अलग नहीं होनी चाहिए। निष्कर्ष में वह तीन बिंदु का भी समावेश होता है, जिसे हमने पहले तीन अनुच्छेद में लिखा था। निष्कर्ष का अंतिम वाक्य एक स्पष्ट संकेत प्रदान करता है, जो निबंध को समाप्त करता है।

निबंध के प्रकार

निबंध लेखक अपने पाठकों को क्या बताना चाहता है, इसके ऊपर निबंध के प्रकार निर्भर रहते है। मोटे तौर पर निबंध मुख्य चार प्रकार के होते है। जो इस तरह है:

1) कथात्मक निबंध :

यह निबंध तब लिखा जाता है, जब लेखक किसी घटना या कहानी का वर्णन निबंध के माध्यम से कर रहा है। कथात्मक निबंध पाठकों को उस कहानी या घटना में शामिल करता है, चाहे वह वहां हो या न हो। इसलिए कथात्मक निबंध वास्तविक और यथासंभव ज्वलंत होता है। यह निबंध लिखते समय “दिखाओ, बताओ मत” यह सिद्धांत का पालन करना चाहिए।

2) वर्णनात्मक निबंध :

वर्णनात्मक निबंध में वस्तु, स्थान, घटना या स्मृति का वर्णन होता है। यह निबंध स्पष्ट रूप से सिर्फ चीजों का ही वर्णन नहीं करता है। लेखक अपने शब्दों के माध्यम से निबंध को एक चित्र के रूप मे लिखता है। ऐसा करने से पाठकों की इन्द्रियों जाग जाती है। एक वर्णनात्मक निबंध जब अच्छी तरह से लिखा जाता है, तो पाठक को उन भावनाओं को महसूस होता है, जो लेखक उस समय महसूस कर रहा था।

3) व्याख्यात्मक निबंध

किसी विषय पर संतुलित अध्ययन प्रस्तुत करने के लिए व्याख्यात्मक निबंध लिखा जाता है। यह निबंध लिखने के लिए लेखक के पास निबंध के विषय का व्यापक और वास्तविक ज्ञान होना चाहिए। यह निबंध में लेखक की कोई भावनाओं की कोई गुंजाइश नहीं होती है। यह निबंध आंकड़ों, तथ्यों, उदाहरणों आदि पर आधारित होता है।

4) प्रेरक निबंध :

निबंध के पाठकों के तर्क को अपने पक्ष में लेने का उदेश्य प्रेरक निबंध का होता है। प्रेरक निबंध से लेखक पाठक को अपने दृष्टिकोण से समझाने का प्रयास करते है। दोनों पक्षों के तर्क को इस निबंध में लेखक प्रस्तुत करते है। लेकिन यह निबंध का आखरी उदेश्य यही होता है, कि पाठकों को यह समझाना है कि लेखक के तर्क में अधिक भार है।

अच्छा निबंध लिखने का सूत्र(अच्छा निबंध कैसे लिखे)

अगर आप भी निबंध अच्छे तरीके से लिखना चाहते है, तो उसके लिए आपको सीखना होगा कि एक अच्छा निबंध कैसे लिखे? हमने यहां पर आपके लिये कुछ टिप्स बतायी है, जिससे आप एक अच्छा निबंध लिख पाओगे।

  1. जल्दी लिखना शुरू करें : जितना जल्दी आप निबंध को लिखोगें उतना ही अच्छा होगा। आपको चिंता को कम करना होगा और शिथिलता को मात देनी होगी। आपको अपने विचारो को विकसित करना है।
  2. निबंध के प्रश्न को ध्यान मे रखे : आपको किस टॉपिक पर निबंध लिखना है वह और उसके प्रश्न को निबंध शुरू से आखिर तक लिखने समय ध्यान मे रखना है।
  3. शुरू से अंत तक एक साथ निबंध लिखने की कोशिश न करें : आप जो भी निबंध लिखना चाहते है उनकी एक संरचना तैयार करे। आपको एक योजना, कुछ वाक्य या बुलेट पॉइंट की मदद से निबंध लिखना चाहिए।
  4. बॉडी के बाद परिचय और निष्कर्ष लिखे : जब आपको यह पता है कि आपका निबंध किस विषय पर है, तब आपको परिचय और निष्कर्ष लिखना है।
  5. निबंध में “साइनपोस्ट” शब्दों का उपयोग करें : संक्रमण के संकेत पाठक को आपके विचारों के क्रम और प्रवाह का पालन करने में मदद कर सकते हैं।
  6. अपने पहले मसौदे को व्यापक रूप से संशोधित करें : आपको य़ह सुनिश्चित करने की जरूरत है, कि आपका पूरा निबंध अनुच्छेद और तार्किक क्रम से प्रवाहित है।
  7. निबंध को कुछ दिनों के लिए अलग रख दे : कुछ दिनों के लिए निबंध को अलग रखने से हम निबंध के लिए विचार कर सकते है और कुछ नयी जानकारी संपादित कर सकते है।

निबंध लेखन के समय ध्यान रखने योग्य बातें

जब भी आप कोई विषय पर निबंध लिखना चाहते हो, तब कुछ बाते ध्यान मे रखनी जरूरी होती है। हमने यहां पर चार ऐसी बातें बतायी है, जो आपको निबंध लिखते समय ध्यान मे रखनी बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह चार बाते कुछ इस तरह है:

  1. निबंध किसी एक बिंदु पर होना चाहिए और बिन जरूरी बातें निबंध में न होनी चाहिए
  2. निबंध किस विषय पर लिखा जा रहा है, उनका सार आपको जल्द से जल्द बताना होगा।
  3. निबंध लेखन में निबंध का परिचय और निष्कर्ष आकर्षक, आश्वस्त करने वाला, स्वादिष्ट और दृढ़ होना चाहिए।
  4. अगर आप अपने ज्ञान और अवलोकन से निबंध लिख सकते है, तो बहुत अच्छी बात है।

निबंध के बिशेषता :

निबंध और निबंध लिखने की विशेषताएं होती है। कुछ विशेषताएं इस प्रकार है:

  1. विकास : सभी अनुच्छेद को निबंध विषय के केंद्रीय विचार का समर्थन या विस्तार करना चाहिए। सभी अनुच्छेद उदाहरणों और विवरणो के माध्यम से समझाया और चित्रित किया जाता है।
  2. ध्यान : निबंध में सिर्फ एक ही केन्द्रिय विचार होना चाहिए। सभी अनुच्छेद में एक स्पष्ट मुख्य बिंदु या विषय वाक्य होना चाहिए।
  3. एकता : मुख्य विचार से प्रत्येक अनुच्छेद जुड़ा हुआ होना चाहिए। सभी अनुच्छेद मुख्य बिंदु पर टिका हुआ रखना चाहिए।
  4. शुद्धता : पूरा निबंध सही तरीके से लिखा हुआ होना चाहिए, मतलब कि पूर्ण वाक्यों के साथ निबंध लिखा जाना चाहिए।
  5. सुसंगतता : एक निबंध तार्किक रूप से व्यवस्थित तरीके से लिखा जाना चाहिए, सुचारू रूप से पाठकों के लिए प्रभावित होना चाहिए और एक साथ “छड़ी” होना चाहिए। दूसरे शब्दों में, निबंध लेखन में सब कुछ पाठक को समझ में आना चाहिए।

हिन्दी साहित्य में निबन्ध :

साहित्य का एक औपचारिक और व्यापक अंश निबंध है, जिसमें किसी भी विषय पर गहन चर्चा की जाती है। निबंध किसी भी विषय पर लेखक के अनुभव, दृष्टिकोण और ज्ञान पर प्रकाश डालता है। निबंध एक लघु साहित्यिक कृति है, जो विशिष्ट विषय का तर्क, व्याख्या और विश्लेषण करती है।

आधुनिक युग से हिन्दी साहित्य में भारतेन्दु और उनके सहयोगियों से निबंध लिखने को शुरूआत हुई थी। निबंध को लिखना ही अपने आप मे एक कला है। आधुनिक युग से शुरू होकर निबंध आज से समय मे शिक्षा मे भी जुड़ा हुआ है और शिक्षा मे निबंध का अनोखा महत्व है।

प्रमुख हिंदी निबंधकार

यहां पर हमने दस प्रमुख हिंदी निबंधकार की लिस्ट दी है। जो हमारे देश के प्रख्यात निबंध कार है।

● प्रेमचंद
● महादेवी वर्मा
● जय संकर प्रसाद
● रामधारी सिंह दिनकर
● हरिवंश राय बच्चन
● अमरिता प्रीतम
● अमर गोस्वामी
● सूर्यकांत त्रिपाठी
● धर्मवीर भारती
● कमलेश्वर

निबंध के संबंधित पूछे जाने वाले सवाल

निबंध के विषय(Essay in Hindi)

यहां पर हमने कुछ निबंध के विषय बताये है, जो परिक्षा में ज्यादातर पूछे जाते है।

भारतीय त्योहार पर निबंध

1मुहरम पर निबंध(Hindi Essay on Muharram)
2कृष्ण जन्मस्थमि पर निबंध(Hindi Essay on krishna Janmastami)
3सरस्वती पूजा पर निबन्ध(Hindi Essay on सरस्वती pooja)
4दुर्गा पूजा पर निबंध(Hindi Essay on Durga Pooja)
5ओनम पर निबंध(Hindi Essay on Onam)
6दीपावली पर निबंध(Hindi Essay on Deepawali)
7क्रिसमस पर निबंध(Hindi Essay on christmass)
8रक्षा बंधन पर निबंध(Hindi Essay on Raksha Bandhan)
9हरेला पर निबंध(Hindi Essay on Harela)
10होली पर निबंध(Holi essay in hindi)

सामाजिक जागृती,मुद्दे पर निबंद

1महिला संसक्तिकरण पर निबंध(Essay on women Empowerment essay in hindi)
2बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध(Essay on Beti Bachao Beti Padhao essay in hindi)
3आत्म निर्भर भारत पर निबंध(Hindi Essay on Atma Nirbhar Bharat essay in hindi)
4सतर्क भारत समृद्ध भारत पर निबंध(satark bharat samriddh bharat essay in hindi)
6बालश्रम पर निबंध(Essay on child Labour)

स्वाथ्य ओर जागरूता पर निबंध

1गंदगी मुक्त मेरा गांव पर निबंध(Hindi Essay on Gandigi Mukt mera Gaon)
2कोरोना वायरस पर निबंध(Hindi Essay on Corona Virus)
3covid 19 पर निबंद(10 लाइन,250,400,500,600,800,1000 शब्द में)

शिक्षा ओर जागरूकता पर निबंध

1ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध (Hindi Essay on Online Education)
2मेरी बिद्यालय पर निबंध(Hindi Essay on My School)
3हिंदी भाषा पर निबंध( hindi Essay on hindi language)

ऋतुओ पर निबंध( Season Essay in Hindi)

1बर्षाऋतु पर निबंध(Hindi Essay on Rainy Season)

परिबेष जागरूकता पर निबंध(Essay on Enviroment)

Leave a Comment